ग़ाज़ीपुर की संस्था “आदिशक्ति सेवा संस्थान” द्वारा सफाई अभियान

दिनाँक 15/07/2018 आदिशक्ति सेवा संस्थान ने पवित्र श्रावण मास की तैयारी में हर हफ्ते नगर के सभी शिवालयों में जहां गंदगी लगी हो वहां साफ सफाई का कार्य प्रारंभ किया।
आज नगर के वीर अब्दुल हमीद सेतु के पूर्व दिशा में स्थित विख्यात काली माता मंदिर के पास शिवलिंग तथा उसके आस पास साफ सफाई का कार्य किया गया। सन् 2002 में स्थापित यह शिवलिंग माँ गँगा के किनारे स्थापित है। बिना किसी के देख रेख के अभाव में यह शिवलिंग के आस पास काफी मात्रा में घास-फूस तथा झाड़ियों ने अपना साम्राज्य फैला रखा था जिसको आदिशक्ति सेवा संस्थान ने उखाड़ फेंका। बाकायदा साफ सफाई कर के सभी सदस्यों ने प्रसाद चढ़ाकर पूजा पाठ किया।
आदिशक्ति सेवा संस्थान के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष सुजीत सिंह ने कहा कि श्रावण मास हिन्दुओ का पवित्र महीना है और भोलेनाथ का मनभावन महीना। आनेवाले श्रावण मास के लिए नगर के सभी शिवालयों को आदिशक्ति सेवा संस्थान साफ सफाई का कार्य करेगी । उनका मानना का साफ सफाई होने से सभी शिवभक्तों को मंदिर में आने जाने से किसी प्रकार की गन्दगी जैसी समस्याओं का सामना ना करना पड़े। इसी को देखते हुवे यह संस्था ने यह कदम उठाया है।
नगर सचिव सुनील यादव ने कहा है कि यह संस्था शुरू से ही स्वच्छता अभियान पर जोर देते आयी है अब यह स्वच्छता अभियान नगर के सभी मंदिरों जो गंदे हो उसको साफ करने का कार्य किया जाएगा।
इस श्रमदान में अपना अमूल्य योगदान देने वालों में रवि यादव, मनोज यादव, सुनील यादव, विनीत गुप्ता, संदीप सोनी, शुभम वर्मा, आशुतोष दीक्षित, चंदन दीक्षित, रितेश गुप्ता, मनोहर यादव, तथा सुजीत सिंह इत्यादि लोग रहे।

YUVA SAKTI SOCIAL WELFARE SOCIETY

आज दिनांक 5/06/2018 विश्व पर्यावरण दिवस के उपलक्ष्य में “युवा शक्ति सोशल वेलफेयऱ सोसायटी ” के द्वारा “सफाई अभियान “का कार्यक्रम कराया गया जिसमें काफी लोगों ने अपना सहयोग दिया और कार्यक्रम को संपन्न कराया |गरीबों के मसीहा ‘राजन पांडेय जी के सुपुत्र ‘अंकित पांडे’ जी ने कार्यक्रम का शुभारंभ कराया और अपना सहयोग प्रदान किया युवा शक्ति के अध्यक्ष “शुभम सिंह” के द्वारा लोगों को साफ- सफाई करने के लिए लोगों को प्रोत्साहित किया गया.

Awareness Companion on World Environment Day

दिनांक 05/06/2018 को विश्व पर्यावरण दिवस के अवसर पर काशी विद्यापीठ ब्लाक के कोरौता गांव में पर्यावरण के सुरक्षा एवं संरक्षण हेतु वृक्षारोपण एवं जागरूकता अभियान चलाया गया । उक्त अभियान में बोधि मानव कल्याण समिति के महासचिव बृजेश कुमार भारतीय,ग्राम प्रधान नवरतम प्रसाद जी, अर्चना कुमारी, प्रियंका, प्रियंका सागर, अमरजीत, ज्योति, सुरेन्द्र इत्यादि लोग सम्मिलित हुये।

बाल देखरेख एवं विकास के मुददों पर दो दिवसीय संगोष्ठी संम्पन्न

लखनऊ । उत्तर प्रदेश फोर्सेस एव सेव दी चिल्डृेन के संयुक्त तत्वावधान में बालदेखरेख एवं विकास के मुददों पर दो दिवसीय संगोष्ठी का आयोजन पारिजात गेस्ट हाउस इन्दिरा नगर लखनऊ किया गया।
कार्यकम के पहले दिन कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए सेव द चिल्ड्ेन राज्य प्रतिनिधि सुरजीत चटर्जी ने बताया कि प्रारंभिक शिशुकाल से जीवन के पहले छह वर्षों का बोध होता है। यह सबसे महत्वपूर्ण दौर के तौर पर जाना जाता है, जब विकास काफी तेजी से होता है और आजीवन संचयी ज्ञान और मानवीय विकास की बुनियाद रखी जाती है। इस बात के वैज्ञानिक प्रमाण हैं कि प्राथमिक वर्षों में मस्तिष्क का जो विकास होता है, वह ऐसा रास्ता है, जो आजीवन शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य को प्रभावित करता है, व्यवहार और शिक्षा पर असर डालता है। उन्होने बताया कि 2011 की जनगडना के अनुसार भारत में 0-6 वर्ष के आयुवर्ग के लगभग 15 करोड़ 87 लाख शिशु हैं प्राथमिक बाल्यावस्था देखरेख और शिक्षा (ईसीसीई) आजीवन शिक्षा और विकास के लिए अपरिहार्य बुनियाद है, जिसका शिक्षा के प्राथमिक चरण की सफलता पर गहरा असर पड़ता है। इसी वजह से यह जरूरी हो जाता है कि ईसीसीई को प्राथमिकता दैं और मांग के अनुरूप संसाधन मुहैया कराकर पर्याप्त तौर पर निवेश करें। इस लिए यह काफी महत्वपूर्ण विषय है इस दिशा में प्रयास करने की आवश्यकता है।
कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए सेवा की सुजन जी ने कहा कि आज के परिवेश में महिलाओं एवं बच्चों को की स्थिति को ध्याान में रखते हुए काम करने की आवश्यकता पर बल देते हुए कह कि सभी छोटे बच्चेा के लिए प्रारमिक बाल देख रेख एवं पूरे दिन के लिए मुुुफत एवं गुणवत्तापूर्ण व समेकित प्रारम्भिक देखरेख की आवश्यकता पर चर्चा की । कार्यक्रम के दौरान एलाइन्स फार चाइल्डकेयर की देविका जी ने कहा कि उत्तर भारत के राज्यों में छः साल से कम उम्र के बच्चों का अधिकार संरक्षण शाला पूर्व शिक्षा एवं गुणवत्ता पूर्ण देखभाल पर केन्द्रित कर सरकार की नीतियाॅं जमीनी हकीकत, गैप्स, चुनौतियाॅं एवं साझा पहल के मुद्दों पर कार्यशाला का आयेाजन किया जा रहा है
फोर्सेस के उद्भव राष्ट्रीय स्तर पर उ0प्र0 में और इसकी जरूरतों के साथ-साथ उ0प्र0 में सरकार
द्वारा 6 वर्ष के नीचे के बच्चों के लि विभिन्न योजनाओं को सदन के समक्ष रखा प्रतिभागियांे ने दिल्ली, उ0प्र0, उत्तराखण्ड, गुजरात आदि विभिन्न राज्यों में बच्चों के स्वास्थ्य, अधिकार संरक्षण् एवं देखभाल पर चलाई जा रही योजनाओं की समीक्षा की और छोटे बच्चों के लिए पूर्णकालिक (डे केयर सेण्टर) के साथ-साथ आई0सी0डी0एस0 के साथ ही शाला पूर्व शिक्षण को लागू करने एवं दुर्गम परिस्थिति में फॅसे बच्चों को देखभाल एवं सेवाओं की पहुॅंख् की माॅंग उठाई।वी0एच0एन0सी0 को सक्रिय किये जाना, समुदाय एवं सेवा प्रदाताआंे के साथ जेण्डर एवं अन्य आधार पर भेदभाव को भी मुद्दे के रूप में सदन ने चिहिन्त किया।
निपसिड के उपनिदेशक डा0 एम0 ए0खान ने सरकार द्वारा चलयी जा रही कार्यक्रम तथा क्रच की आश्यकता पर बल दिया उन्होने बताया कि छोटे बच्चों के लिए फोर्सेस द्वारा की जा रही प्रयास में आगनवाडी केन्दो के लिए बेसिक सुविधाओं को को बेहत प्रयास की आश्यकता है।
इन माॅंगों एवं गैप्स तथा चुनौतियों के मध्य नजर साझी रणनीति पर चचायें की गई। प्रतिभागियों में उ0प्र0 फोर्सेस के विश्वम्भर भाई, शिशुपाल,प्रीति राय अर के वर्मा,कृष्णाख् वीके रायथानेश्वर,जेे0पी0 शार्मा,वी पी चाण्डेय, डा0वीएस सिंह सहित उत्त्र प्रदेश सहित दिल्ली के कुल 40 प्रतिभागियो सदस्यों ने अपने विचार साझा किये।
कार्यशाला में विभिन्न सत्रों की अध्यक्षता संयुक्त रूप से एलाइन्स फार चाइल्डकेयर सुश्री देविका जी, राष्ट्रीय फोर्सेस के बासंती रामन, सेवा गुजरात की सुसान सेव दी चिल्ड्रेन, भारत (लखनऊ) के सुरोजीत चटर्जी, आई0सी0डी0एस0 यूनियन सुश्री वीना गुप्ता,ए संचालन उ0प्र0 फोर्सेस के संयोजक श्री रामायण जी ने किया।

Free food distribution

The Sha FOUNDATION Sponsor for free food and Cloths for Poor and Downtrodden People. They don’t have home at all.We provide the food bag and Cloths around 80 People from in and around Pondicherry City. The event has organised on 01-04-2018 at 2 Pm in the Noon. Sha foundation going to help the people for Whoever’s in the Poor.Like a street on the Road. The don’t have homeless, Blindness, Poor and Downtrodden Person.

 

नशा मुक्ति अभियान का आयोजन

बोकारो  के नर्रा पंचायत नशा-विरोधी और नशा-मुक्ति अभियान आकाश गंगा वेलफेयर सोसाइटी के द्वारा  महिलाओं की मदद से किय गया. इन औरतों सहित दर्जनों गांववाले ने इसमे विशेस हिस्सा लिया
इस अभियान में शामिल स्थानीय लोग नशे के कारण युवाओं की बद से बदतर होती हालत को लेकर चिंतित हैं. उन्होंने आने वाले समय में भी यह अभियान जारी रखने का संकल्प लिया है क्योंकि यहां के युवाओं में दिन पर दिन नशे की आदत बढ़ती जा रही है.
संस्था के संरक्षक उमेश विश्वकर्मा के  बताया कि उन्होंने अपने सामने युवाओं को नशे के चक्कर में अपनी जिंदगी बर्बाद करते देखा है, इसी कारण उन्होंने इस इलाके को नशे की गिरफ्त से मुक्त कराने का फैसला लिया है. नशे  की लत ग्रामीण   इलाकों की युवा पीढ़ी के भविष्य को बर्बाद कर रही है.

विद्यार्थियों ने भगत चौराहा पर पानी का स्टाल लगाकर लोगों का सेवा किया

गोरखपुर विद्यार्थियों ने भगत  चौराहा पर पानी का स्टाल लगाकर लोगों को सेवा किए इस दौरान सौरभ पांडे ने कहा कि विषय गर्मी में राहगीरों को  निशुल्क पानी पिलाना एक  पुण्य का कार्य है

Free Physiotherapy Camp by ““Dhara for sustaining life” in Delhi

A free physiotherapy camp was organized on 30th April, 2018 (Monday) by “Dhara for sustaining life” at Apsara Arcade, Near Karol Bagh Metro Station, Delhi-60 in association with Aspire IAS Institute.  This camp focused on Neck Pain, Back Pain, Knee Pain, Vestibular Problem, Balance Problem & omen Health Problem. Around 100 Patients were benefited from the camp.

Doctors advised various daily physical exercises as well as diet full with green vegetables to prevent such pains. Among students and professionals this problem was caused mainly by wrong sitting posture which can be correct by little consciousness. Mr Ankit Kumar,President of “Dhara” said that prevention of Non Communicable & lifestyle diseases is one of the major goal of Dhara NGO.

राष्ट्रीय स्तर पर कार्यरत सस्था सोसाइटी फॉर ब्राइट फ्यूचर की और से बवाना में राशन वितरण।

20 जनवरी 2018 को एक पटाखा फैक्ट्री में आग लग जाने के कारण 20 व्यक्ति की जल कर मोत हो गई थी। और कुछ व्यक्ति गंभीर रूप से घायल हुए थे। इस हादसे के बाद सोसाइटी फॉर ब्राइट फ्यूचर दिल्ली प्रदेश ने इन परिवार का सर्वेक्षण किया जिन परिवारों ने आग में अपने सगे संबंधियों को खो दिया था
ऐसे 30 परिवारों को आज 31 मार्च 2018, को राशन का वितरण किया गया जिसमे 25 kg. चावल, दाल ,तेल , घी ,चीनी ,साबुन आदि था। इस कार्यक्रम के आयोजन में मुख्य रूप से मोहमद साकिब, कनवेनर सोसाइटी फॉर ब्राइट फ्यूचर दिल्ली प्रदेश तथा इरशाद अहमद ,अब्दुल सत्तर ,आदि प्रमुख वालंटियर ने भाग लिया।

1 2 3 4 5 16