पर्यावरण – जल संरक्षण संगोष्ठी व सम्मान समारोह

सुल्तानपुर 04 जून। जय श्री फाउंडेशन की ओर से राम नरेश त्रिपाठी सभागार में पर्यावरण- जल संरक्षण, संगोष्ठी एवं सम्मान समारोह व जल का संरक्षण आयोजित किया गया. जल के प्रयोग को संयमित कर एवं सफाई, निर्माण एवं कृषि आदि के लिए अवशिष्ट जल का पुनःचक्रण (रिसाइक्लिंग) कर किया जा सकता है। समारोह की अध्यक्षता करते हुए संस्था अध्यक्ष मोहित मयंक तिवारी ने लोगों को पर्यावरण और जल संरक्षण के महत्व को बताया। उन्होंने कहा कि पर्यावरण सुरक्षित तो जीवन सुरक्षित। जल का संरक्षण देशीय वृक्ष-रोपण कर तथा आदतों में बदलाव लाकर भी संचित किया जा सकता है, मसलन- झरनों को छोटा करना तथा ब्रश करते वक़्त पानी का नल खुला न छोड़ना आदि।
इससे पूर्व समारोह का प्रारंभ मा सरस्वती और मंगल पांडेय के चित्र पर माल्यार्पण व दीप प्रज्वलन के साथ हुआ। बाल कलाकार हर्ष गोविन्द व भीष्म गोविंद मौर्य ने हारमोनियम और तबला वादन की थाप पर सरस्वती वंदना की।
समारोह में मेधावी विद्यार्थियों एकता वर्मा, सुधांशु सिंह, दिव्यांशु सिंह, प्रखर शर्मा,अमन मोदनवाल, सुफियान आदम और आई ए एस सौरभ बरनवाल को साल, शील्ड व प्रशस्ति पत्र देकर सम्मानित किया गया। साहित्यकार आद्या प्रसाद सिंह, सुशील पाण्डेय’साहित्येन्दु’, डॉ0 राधेश्याम सिंह, कमलनयन पांडेय, डॉ0 डी एम मिश्र, दयाराम अटल, अजमल सुल्तानपुरी और बाल कलाकार हर्ष गोविंद मौर्य, भीष्म गोविंद मौर्य व आकांक्षा तिवारी, समाजसेवियों में करतार केशव यादव, इक़बाल हैदर, शिवकांत पांडेय, अमर बहादुर सिंह, विजय विद्रोही, आशुतोष श्रीवास्तव, डॉ0 दिनकर प्रताप सिंह और पत्रकार अशोक सिंह, सत्य प्रकाश गुप्ता, दया शंकर गुप्ता, नरेंद्र द्विवेदी, विक्रम बिजेंद्र सिंह, राज खन्ना, अनिल पाठक, रमाकांत तिवारी, सुरेश मौर्य, रवि श्रीवास्तव, अनुराग द्विवेदी, मनोराम पांडेय को सम्मानित किया गया। अतिथियों को अंगवस्त्र, स्मृति चिन्ह देकर संस्था प्रवक्ता शिवकुमार तिवारी ने सम्मानित किया। समारोह को विशिष्ट अतिथि राघवेंद्र सिंह, जगजीत सिंह, बबिता जायसवाल, अजय जायसवाल, बबिता तिवारी, सोनम चिश्ती, सुधीर तिवारी फैजाबाद, मोहित सिंह व वनाधिकारी ऐ के द्विवेदी ने भी सम्बोधित किया। दयाराम अटल ने अपनी काव्य रचना पढ़ी। धन्यवाद ज्ञापन कार्यक्रम संयोजक कलीम खान ने किया। समापन उपाध्यक्ष राजेश तिवारी ने किया। समारोह में संस्था कार्यकर्ता अंकित गुप्ता, विवेक तिवारी, बालेश्वर तिवारी, शुभम मिश्र, रंजीत भार्गव, पंकज श्रीवास्तव, राधेश्याम, पंकज मिश्र, धीरेन्द्र मिश्रा, विपिन पाण्डेय, रमाकांत तिवारी, आनन्द पाण्डेय, बालकृष्ण तिवारी, संतोष पाण्डेय, शौर्य आनन्द आदि का सराहनीय योगदान रहा।

मंथन फाउंडेशन ऑफ़ इंडिया द्वारा नई दिल्ली में सम्मान समारोह कार्यक्रम आयोजित

संस्था मंथन फाउंडेशन ऑफ़ इंडिया द्वारा 14 जून 2018 को शाम 4 बजे आर्य समाज मन्दिर लाजपत नगर नई दिल्ली में सम्मान समारोह कार्यक्रम में सभा संस्था के संस्थापक श्री सुशील कुमार जी एवं राष्ट्रीय अध्यक्ष / चेअरमैन श्री राजिंदर कपूर जी व राष्ट्रीय कोषाध्यक्ष / उपाध्यक्ष  श्री योगेन्द्र कुमार जी की अध्यक्षता में आयोजित की गयी | इस कार्यक्रम को  सुचारूरूप से प्रतिपादन करने में संस्था की प्रेरणास्रोत राष्ट्रीय सचिव अनीता राज जी के अमूल्य सहयोग एवं मार्गदर्शन में हुआ | कार्यक्रम के मुख्य अतिथि SBI बैंक लाजपत नगर लक्ष्मी नारायण जिलोवा (सहायक महाप्रबंधक) उनकी पत्नी मधू शर्मा जी , दिल्ली प्रदेश अध्यक्ष रचना कालरा जी, सचिव रचना चड्डा जी , उत्तर प्रदेश के चेअरमैन राजीव कुमार वर्मा जी ने बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ, स्वच्छ अभियान की आवश्यकता एवं अच्छे से अच्छा कार्य करने की प्रेणना दी और सार्थकता पर अपने विचार ब्यक्त किये | संस्था के राष्ट्रीय कोषाध्यक्ष / उपाध्यक्ष श्री योगेन्द्र कुमार जी ने शौर्यगाथा का गुणगान किया | इस अवसर पर संस्था के राष्ट्रीय कोर्डिनेटर राहुल जैन जी , श्री अमित शर्मा मिडिया प्रभारी , श्री जुगलकिशोर राष्ट्रीय सलाहकार, दिनेश पटेल अध्यक्ष त्रिलोकपुरी ,संजय चावला  राष्ट्रीय प्रोजेक्ट डारेक्टर, सुनीता छुगानी समन्वयक  ईस्ट दिल्ली , नीतू , आनंद परिसर, सतीशचन्द्र, पूनम सिंह  आदि लोगो को फूलोँ के बुक्के व सम्मान पत्र देकर सम्मानित किया गया और लोगो ने अपने अपने विचार ब्यक्त किये | इस कार्यक्रम को सफल बनाने में संस्था के टीम की मुख्य भूमिका रही |

समाजसेवी संस्था जय श्री फाउण्डेशन ने प्राथमिक विद्यालय, पुलिस लाइन में किया पौधरोपण।

पौधरोपरण कर बताया पर्यावरण का महत्व

१७, जुलाई २०१८। समाजसेवी संस्था जय श्री फाउण्डेशन ने प्राथमिक विद्यालय, पुलिस लाइन में किया पौधरोपण।
पौधरोपण कार्यक्रम के दौरान विद्यालय परिसर में ढेर सारे पौधे रोपे गए। जिसमें खासतौर पर विद्यालय के बच्चों ने उत्साह पूर्वक हिस्सा लिया।
विद्यालय की हेडमास्टर अनुपम शुक्ला ने फाउण्डेशन के कार्य को सराहते हुए पौधरोपण का महत्व भी बच्चों को बताया। उन्होने कहा की पौधरोपण से ज्यादा जरूरी है पौधों की देखभाल करना। पौधरोपण के साथ ही उसका संरक्षण करना हम सबका दायित्व है।
समाजसेवी मोहित मयंक तिवारी ने बच्चों को पौधों को संरक्षित करने एवं पॉलीथीन का उपयोग न करने की शपथ दिलाई। और कहा कि पौधरोपण एवं पर्यावरण संरक्षण एक जन आंदोलन बने।
फाउण्डेशन के पौधरोपण अभियान संयोजक पंकज मिश्रा ने बताया कि फाउण्डेशन द्वारा पिछले 13 जुलाई से निरंतर स्कूलो, सरकारी कार्यालयों जैसे विभिन्न प्रशासनिक जगहों पर निरंतर पौधरोपण अभियान चलाकर लोगो को पर्यावरण संरक्षण के प्रति जागरूक किया जा रहा है।
इस मौके पर अध्यापिका नेहा अग्रवाल, संस्था कार्यकर्ता धीरेन्द्र मिश्रा, विपिन पाण्डेय, अतुल पाठक, विवेक तिवारी, राजेश तिवारी एवं छात्र – छात्राएं मौजूद रहे।

अमर शहीद मंगल पाण्डेय के जयन्ती पर “जय श्री फाउण्डेशन” ने पौधरोपण कर दी श्रद्धांजलि

*अमर शहीद मंगल पाण्डेय के जयन्ती पर “जय श्री फाउण्डेशन” ने पौधरोपण कर दी श्रद्धांजलि*

१९ जुलाई, २०१८। भारत के प्रथम स्वाधीनता संग्राम में महत्वपूर्ण भूमिका निभाने वाले आजादी की लड़ाई के नायक मंगल पांडेय को उनके जन्मदिन पर याद करते हुए जय श्री फाउण्डेशन द्वारा कुड़वार थाना परिसर में पौधरोपण किया गया। और अमर शहीद मंगल पाण्डेय को श्रद्धांजलि अर्पित की गयी।
इस मौके पर थानाध्यक्ष नन्द कुमार तिवारी ने फाउण्डेशन की पहल को सराहते हुए कहा कि हम सबको पौधारोपण के साथ पर्यावरण संरक्षण भी करने का संकल्प करना चाहिए जिससे हम आने वाली पीढ़ी को एक स्वच्छ वातावरण देने मे सहायक हो।
समाजसेवी मोहित मयंक तिवारी ने मंगल पाण्डेय जी के देश के प्रति कुशल नेतृत्व को याद करते हुए कहा कि हम सब एक प्रतिज्ञा के रूप में पौधारोपण कार्यक्रम को सफल बनायें जिससे हम आने वाले समय में अपने आप को और आने वाली पीढ़ी को प्राकृतिक आपदाओं से बचा सकें।
उन्होंने कहा कि परिवार के प्रत्येक सदस्य का कर्तव्य होना चाहिये कि हर साल एक पेड़ अवश्य लगायें और उसकी भलीभाँति देखभाल करें।
कार्यक्रम संयोजक बालकृष्ण तिवारी ने बताया कि फाउण्डेशन द्वारा पिछले 13 जुलाई से निरंतर स्कूलो, सरकारी कार्यालयों जैसे विभिन्न प्रशासनिक जगहों पर निरंतर पौधरोपण अभियान चलाकर लोगो को पर्यावरण संरक्षण के प्रति जागरूक किया जा रहा है।
इस मौके पर उप निरीक्षक ओ पी तिवारी, आदित्य तिवारी, शुभम मिश्रा, रामकृष्ण तिवारी, शिव कुमार तिवारी, एडवोकेट राधेश्याम, राम सूरत तिवारी आदि मौजूद रहे।

Lilith Smile Foundation shared with Eid happy poor people

Murshidabad, WB: Bring the day to eat. Eid day is still a few days away. Manage still has clothes and sweet mouth food for himself and his son. Like the other five days, Eid day is equal to them.

Youth of Domkal, Eid did not buy their own clothes and helped them earn a small amount of money and helped poor people. Giving them hand is a lot of clothes and food. The Domkal gave 60 gifts to the poor families at home and gifted their gifts to the whole family. The Voluntary organization ‘Little Smile Foundation’

Voluntary organization member Masum Rahman said, “How many people can live happily or not. Do not all the clothes of yourself or your son or daughter, or some sweet foods All of them are cut out by Eid. Our program is to smile at the faces of the poor families. The member of the organization Sagar Sarkar said, the number of poor are rising, there is no one to see them. They have been able to collect two new meals in two days to earn their livelihood. Many people can not even do that.

A person’s life requires food, clothing, housing, education. In the meantime, we tried to stand beside the helpless people. We want to smile at the face of the people, regardless of race, religion, politics, caste, and poor families. Same programs like Durga Puja will also be taken.

दीपालय का 39 वां स्थापना दिवस बड़े उत्साह के साथ मनाया गया

39 साल पहले, इस दिन 16 जुलाई 1979 में, दीपालय नामक सिविल सोसाइटी संगठन का जन्म हुआ था। पांच बच्चों, दो शिक्षकों और अपने संस्थापक सदस्यों द्वारा 17,500 रुपये के निवेश के साथ विनम्र कार्य की शुरुआत की। दीपालय एक लंबा सफर तय कर चुका है; आज दिल्ली-एनसीआर में सबसे बड़े परिचालन एनजीओ के रूप में उभरते हुए, इसने भारत के छह राज्यों और छह अलग-अलग क्षेत्रों में उपस्थिति स्थापित की है (शिक्षा, संस्थागत देखभाल, महिला सशक्तिकरण, व्यावसायिक प्रशिक्षण, हेल्थकेयर, और दिव्यांग)।

दीपालय के 39 वें फाउंडेशन दिवस (जिसे दीपालय दिवस के रूप में जाना जाता है) आज दीपालय स्कूल कालकाजी एक्सटेंशन ऑडिटोरियम में सांस्कृतिक प्रदर्शन व मनोरंजक गतिविधियों के साथ मनाया गया। यह कार्यक्रम वरिष्ठ अधिकारियों, दीपालय के कार्यकारी समिति के सदस्यों के द्वारा सम्बोधित किया गया। वरिष्ठ स्तर से लेकर जूनियर कर्मचारियों सहित मनाये गये इस समारोह में “विविधता में एकता” को दर्शाया गया।

इस कार्यक्रम की शुरुआत दीपक प्रज्वलन और दीपालय के मिशन-विज़न के पढ़ने के साथ की गयी।

श्री ए जे फिलिप, सचिव और मुख्य कार्यकारी, दीपालय ने अपने स्वागत भाषण में समाज की भलाई के लिए एकता और सत्यनिष्ठा पर बल दिया। “हमे समुदायों के प्रति ईमानदारी और वचनबद्धता के साथ सेवा करते हुए अभी 39 वर्ष ही पूरे हुए है, अभी हमें और आगे बढ़ना है। हमें संघर्ष और सीमाओं से ऊपर उठना है और किसी भी तरह से समाज में योगदान देने के लिए एकसाथ सभी को काम करना चाहिए,” श्री फिलिप ने कहा।

श्री वाई चैकोचान, प्रेजिडेंट, दीपालय, 39 साल पहले सुनहरे दिनों में वापस चले गए, जब दीपालय की शुरुआत उनके ड्राइंग रूम से की गयी थी, कुछ आदरणीय व्यक्तियों द्वारा जिनके पास समाज को वापस देने का एक आम और दृढ़ मिशन था। “कई बाधाओं और चुनौतियों के बावजूद, आज हम इस मुकाम पर पहुचें है जहाँ पर हमें समाज की सेवा करते हुए गर्व महसूस होता है। मैं आशा करता हु की दीपालय आने वाले कुछ सालों में और नै ऊचाइयों को छू पायेगा,” श्री चैकोचान ने कहा।

डॉ जॉर्ज जॉन, फॉर्मर वाईस चांसलर, बिरसा कृषि विश्वविद्यालय, झारखंड (जो हाल ही में दीपालय के बोर्ड में शामिल हुए है) ने कहा कि उनकी राय में, दीपालय के प्रबंधन व नियम विधि देश के कई सरकारी स्कूलों के लिए एक आदर्श हो सकता है।

डॉ एनी मैथ्यू, बोर्ड मेंबर, दीपालय ने पिछले पांच वर्षों में संगठन की उपलब्धियों के बारे में बात की। साथ ही कार्यक्रम में श्री सखी जॉन, बोर्ड के सदस्य और डॉ (प्रोफेसर) मैरी अब्राहम, जनरल बॉडी के सदस्य भी मौजूद थे।

150 से अधिक दीपलाय परिवार के सदस्यों (जिसमे कार्यकर्ताओं सहित इंटर्न्स और वालंटियर्स भी थे) ने मंच पर अपने कलाओं का प्रदर्शन किया। प्रत्येक प्रदर्शन अपने आप में आकर्षण का एक केंद्र था, पर जिनके लिए लोगो ने विशेष प्रशंशा की वह दीपालय एसक्यूईपी प्रोजेक्ट (एसडीएमसी स्कूल, ओखला) द्वारा विभिन्न गीत; माइक्रोफाइनेस प्रोजेक्ट, तावड़ू द्वारा “बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ” के संदेश पर प्रकाश; दीपालय के स्पेशल यूनिट, संजय कॉलोनी द्वारा फ्यूज़न डांस; और दीपालय एचआरसी द्वारा “जिंदगी का सफर” एक स्किट जो जीवन के बिभिन्न चरणों के माध्यम से मनुष्यों में सामाजिक-भावनात्मक खासियत को दर्शाया गया।

कार्यक्रम में कुछ गीत, कविताएं, ग़ज़ल और डांस प्रदर्शन भी किये गए, जिनमे से कुछ हरियाणा और राजस्थान के गीतों को जोड़ा गया; कुछ गीत लोगों को 70 और 80 के दशक में वापस ले गये। दीपालय स्कूल गुस्बेथी द्वारा “श्रीदेवी को श्रद्धांजलि” देते हुए एक अदभुत नृत्य का प्रदर्शन किया गया ये। यह पूरी तरह से यादगार और जोश से भरा दिन रहा।

श्रीमती जसवंत कौर, कार्यकारी निदेशक, दीपालय ने सभी को धन्यवाद देते हुए अगले साल एक विशाल और बड़े उत्सव के साथ आने का वादा करते हुए राष्ट्रीय गान के साथ कार्यक्रम का समापन किया गया।

समाजसेवी संस्था “जय श्री फाउण्डेशन” ने कराया शरबत वितरण

समाजसेवी संस्था “जय श्री फाउण्डेशन” ने कराया शरबत वितरण*

सुल्तानपुर, 8 मई। समाजसेवी करतार केशव यादव ने शरबत वितरण शिविर का उद्घाटन करते हुए कहा कि राहगीरों, प्यासों को पानी पिलाना पुनीत कार्य है। जल ही जीवन है और इसकी साथर्कता तब और प्रांसगिक हो जाती है जब भीषण तपिस हो।
श्री यादव ने उक्त बातें जय श्री फाउण्डेशन द्वारा बस स्टाप पर आयोजित शरबत वितरण शिविर के उद्घाटन अवसर पर कहीं। उन्होंने कहा कि संस्था ने भीषण गर्मी से जूझ रही जनता को राहत पहुँचाने के लिए शरबत वितरित करने का सराहनीय पहल किया है। संस्थाध्यक्ष मोहित मयंक तिवारी ने बताया कि संस्था की ओर से गत वर्ष की तरह इस बार भी गर्मी के मौसम में लोगों की सुविधा के लिए शरबत वितरण आयोजित किया गया।
संस्था के सदस्यों ने प्यासे लोगों को शर्बत पिलाया। राहगीरों ने शर्बत पीकर अपनी प्यास बुझाई। सभी स्वयंसेवको ने तल्लीनता के साथ मनोयोग से प्यासों को शरबत पिलाई। अन्त में शरबत वितरण का समापन संस्था मार्गदर्शक शिव कुमार तिवारी ने किया। कार्यक्रम में सी.ए. अजीत जायसवाल, कौशलेन्द्र प्रताप सिंह, रोहित सिंह, मनीष मिश्र, कलीम खान, अंकित गुप्ता, बच्चू लाल, मिन्टू सिंह, राधेश्याम, मोहित साहू, शुभम मिश्रा, पंकज मिश्रा, मोनू सोनकर, पुष्पेन्द्र मिश्र, दीपक श्रीवास्तव एवं शिवम तिवारी का सराहनीय योगदान रहा।

एच आई वी – एड्स के प्रति जागरूकता

अरमान फाउंडेशन जबलपुर मध्य प्रदेश की स्वयं सेवी संस्था एल जी बी टी समुदाय के स्वास्थ्य के साथ साथ उनके मानवाधिकारों के मुद्दों पर कार्य कर रही है । अरमान फाउंडेशन द्वारा जबलपुर जिले के लेस्बियन, गे, बाई सेक्सुअल और ट्रांस जेंडर समुदाय को एच आई वी /एड्स के प्रति जागरूक करने के साथ ही समाज में उनके साथ होने वाले भेदभाव को दूर करने के लिए भी कार्य किया जा रहा है ।

Australian High Commission Officials Interact With Students of Deepalaya Vocational Training Centre, Patel Garden

Deepalaya Vocational Training Centre, Patel Garden provides computer training, career counseling, English Speaking classes, and personality development training for underprivileged children from nearby communities aged 17-25. The centre currently offers 2 computer training courses: Certificate Course for Beginners (CCIB) and Computer Course Advance Word & Excel (CCAWE), both of which are designed by NIIT Foundation.

 

Apart from computer training, this centre aims at holistic development of youth from the community by imparting employable skills in relation to various industries/corporate/service sectors, and also offers job placements to the students. The project kicked off in June 2017 with funding support by Australian Aid (a funding agency of the Department of Foreign Affairs and Trade, Australian High Commission). Over the last one year, it has reached out to 134 students from the area, as opposed to an initial target of 120.

 

Senior representatives from Australian High Commission today paid a courtesy visit to Deepalaya Vocational Training Centre in Patel Garden. The delegation included Mr. Simon O’ Connor, Chairman, Direct Aid Programme of Australian High Commission, and Ms. Pallavi Nayek, Direct Aid Programme Administrator at Department of Foreign Affairs and Trade, Australian High Commission.

 

One of the students of the VTC, Mr. Gurjeet Singh gave the welcome speech. Smt. Jaswant Kaur, Executive Director, Deepalaya gave a short presentation on Deepalaya NGO, its intervention in different sectors, and elucidated the outcomes and challenges of the Vocational Training Project in Patel Garden.

 

Mr. A. J. Philip, Secretary and CE, Deepalaya felicitated the guests from Australian High Commission, and thanked them for their generous support in implementing the project. “Only if our patrons continue to extend support to the initiatives of Deepalaya, shall we be able to move forward in our mission to educate communities and make them self-reliant,” added Mr. A J Philip.

 

The guests interacted with the beneficiaries of this project, and oversaw the infrastructure and facilities.  On the sidelines of the interactive session, 2 girls of the VTC presented a dance performance on the song “Aashayein”.

 

Mr. Simon O’ Connor, Chairperson, Direct Aid Programme of Australian High Commission said that he was delighted to be associated with this noble project, which not only provides vocational skills, but aims at socio-economic empowerment of the beneficiaries. “Confidence, self-belief, and persistence are the three golden rules of success in your careers,” he told the VTC students.

 

Hereafter, some of the students from the last batch who have already been placed in respectable companies shared their experiences; they shared how Deepalaya teachers and staff acted as a guiding light in shaping their careers and lives and helped them in overcoming challenges. The event ended with a vote of thanks by Mr. Pradeep Chauhan, Computer Teacher, Deepalaya.

 

As an organization that promotes the vision of achieving self-reliance among all, Deepalaya’s vocational training programmes equip students with marketable skill sets and personality enhancement traits, so that the beneficiaries get an edge in terms of applying for competitive jobs. These projects are spread across Delhi-NCR, Haryana, Uttar Pradesh, and Uttarakhand, including cutting & tailoring units, beauty & culture units, computer training centers, and so on.

1 2 3 4 15