दीपावली पर बच्चों द्वारा किया गया वृक्षारोपण

ग्रामीण सेवा संस्था द्वारा किये गये जागरूकता अभियान का दिखा असर अभिभावकों से अपील किया गया था कि दीपावली के दिन अपने घर के बच्चों से कम,से कम एक पेड़ अवश्य लगवाये जिसका असर देखने को मिला । ग्रामीण सेवा संस्था के सचिव श्री भूपेन्द्र सिंह ने बात की उस दिन पचपन बच्चों ने किया वृक्षारोपण ।

अध्यात्म के साथ बही देशभक्ति, श्रंगार तथा हास्य की गंगा

राष्ट्रीय सामाजिक संस्था पिडिट्स के द्वारा जक्खिनी, राजातालाब, वाराणासी में आयोजित संगीतमय श्रीमद्भागवत कथा के समापन पर भव्य कवि सम्मेलन का आयोजन किया गया।
इस आयोजन में प्रदेश के कई प्रसिद्ध कवि सम्मिलित हुये। कार्यक्रम के प्रारम्भ में बनारस के कवि अभि पण्डित ने “मै एक कहानी लिखता हूँ, तुम एक कहानी लिख जाना सुनाकर श्रोताओं का मन मोह लिया तो सुल्तानपुर से आये कवि प्रभात पाण्डेय की कश्मीरीघाटी पर बोली कविता सुनकर श्रोताओं के रोम रोम में देशभक्ति जाग उठी वहीं चन्दौली के कवि नंदशंकर पाठक के हास्य से जनता लोट पोट हो गयी। नंदशंकर जी ने काशी और बनारस की एक अलग तस्वीर श्रोताओं को बताई जिससे श्रोताओं के हॅसते हॅसते पेट में बल पड़ गये। चन्दौली की कवियित्री रूची पाण्डेय के श्रंगार के गीतों ने भी जमकर तालियाँ बटोरी।
इलाहाबाद से आये युवा कवि संक्षेप बरनवाल के मुक्तकों में गंगा जमुनी प्रभाव देखने को मिला वहीं बनारस के वरिष्ठ कवि विमल बिहारी जी की भोजपुरी एवं हिन्दी कविताओं को सुनकर जनता ने पुनः पढने का निवेदन किया। कानपुर से आये कवि सौरभ दीक्षित ने समाज की वर्तमान स्थिति की तस्वीर को अपनी कविता के माध्यम से प्रस्तुत किया। सौरभ दीक्षित की कविता ” रिश्तों में दीवारें बन गयी अपनी और पराई की। बाबा आये बड़े के हिस्से अम्मा छोटे भाई की सुनकर लोग भावुक हो उठे। कार्यक्रम के आयोजक श्री शिशिर कुमार उपाध्याय तथा प्रतीश कुमार शर्मा जी ने हमारे संवाददाता को बताया कि इस प्रकार के आयोजन हमारे समाज की एकता और अखण्डता के लिये अति आवश्यक हैं।
कार्यक्रम के मुख्य सूत्रधार श्री भरत सिंह तथा सुनील कुमार जी ने राष्ट्रीय सामाजिक संस्था पिडिट्स का धन्यवाद किया तथा ये विश्वास दिलाया है कि अब हर वर्ष इस प्रकार का कम से कम एक कार्यक्रम अवश्य आयोजित कराया जायेगा जिसमें समस्त जक्खिनी वासी ही नही अपितु आसपास के गाँवों के लोग भी सहभागिता करेंगें। एक तरफ जहाँ आयोजकां ने कवियों तथा भागवताचार्य श्री अवधबिहारी पाण्डेय जी का सम्मान किया वहीं दूसरी ओर पिडिट्स संस्था की ओर से समस्त आयोंजकों का तथा क्षेत्र के वरिष्ठजनों का सम्मान अंगवस्त्र, राधाकृष्ण के छायाचित्र वाला प्रतीक चिन्ह तथा संस्था का सम्मान प्रमाणपत्र देकर किया गया। भागवत कथा का आयोजन 10 अक्टूबर से 17 अक्टूबर 17 तक जक्खिनी के पंचायत भवन प्रागंण में किया गया इसमें भारी संख्या में लोग उपस्थित रहे।

Sports activities by Ashirwad Seva Sansthan Ghaziabad U.P

मुरादनगर. आशीर्वाद सेवा संस्थान के तत्वाधान में सिद्धार्थ इंटरनेशनल पब्लिक स्कूल मुरादनगर में 9 सितंबर 2017 को खेलकूद प्रतियोगिता का आयोजन किया गया | इस प्रतियोगिता में लगभग 130 बच्चों ने काफी उत्साहपूर्वक भाग लिया|

खेलकूद में बैलून रेस प्रतियोगिता बच्चों के लिए काफी हर्षोल्लास एवं रुचि का विषय रहा | प्रतियोगिता में बच्चों ने खूब खूब आनंद प्राप्त किया| बैलून रेस प्रतियोगिता में प्रथम स्थान पर साक्षी, पारुल, आदित्य की टीम रही| दूसरे स्थान पर ईसा, इशिका, आदित्य, आर्यन की टीम रही वहीं तीसरे स्थान पर शान, काव्य, दिव्यांश, खुशाल एवं चिराग की टीम रही |

आयोजन के अवसर पर आशीर्वाद सेवा संस्थान के उपाध्यक्ष सत्य प्रकाश, सचिव डी के गौतम, सदस्य अरविंद, कुमार, मनीष कुमार सिंह, सिद्धार्थ इंटरनेशनल पब्लिक स्कूल मुरादनगर के निर्देशक संजीव शर्मा, प्रधानाचार्य  नीलम गर्ग, क्रीड़ा शिक्षक के डी शर्मा, पूनम रोहिल, ऋतु ,विजय आदि मौजूद रहे |

Health and Legal Awareness Camp Organized by SEWASHREE

Gaziabad. A health and Legal awareness camp was organised by SEWASHREE an NGO working for the cause of the poor and deprived, at DLF Ankur Vihar, Loni, Distt Gaziabad on 10 September 2017.

The camp was attended by hundreds of residents of the colony and it’s surrounding areas. Large numbers of volunteers from medical and legal back grounds expressed their views and educated the people on different aspects of healthy life and legal services provided by the government. The eminent speakers Advocate Poonam Sharma, Advocate Archana Kumari, Gynecologist Dr. Sony Sohane addressed and participated in event and camp.

Free sugar checkup camp by Ehsaas Manav Utthan Samiti

कानपुर. 20 अगस्त को एहसास मानव उत्थान समिति द्वारा मानस धाम गेस्ट हॉउस मे निःशुल्क ब्लड चेकअप कैम्प का आयोजन किया गया जिसमे आस पास के लोगो निःशुल्क जांच कवाई गई. इस मौके पर क्षेत्रीय पार्षद राम अवतार प्रजापति भी मौजूद रहे. कार्यक्रम के समापन के बाद संस्था के अध्यक्ष एस पी सिंह व अन्य पदाधिकारियों द्वारा कार्य कर रहे लोगों को प्रशस्ति पत्र दे कर सम्मानित किया गया.

Celebration of life event organised

Sahibabad. Celebration of life-1, A social event by Good Enough Foundation, held at Ramraj Seva Sansthan (Trust) Orphanage Sahibabad on Sunday, the 30 th July.
Celebration of life -1 (July 2017 ) – This event was a birthday celebration for the children of this orphanage which included cake cutting ceremony of all children in a fun and frolic atmosphere.

Children enjoyed the music, dance and doing fun, playing musical based games, a surprise element for them, was character of spider man who met them and played with them well as shared awareness messages,event concluded with birthday based meal and distribution of gifts to all.

 

स्वरूप योग प्रशिक्षण एवं समगरोपचार ट्रस्ट

स्वरूप योग प्रशिक्षण एवं समगरोपचार ट्रस्ट उत्तर प्रदेशमें बिना किसी स्वार्थ के,और इसमें आनन्द व इसके प्रति अपने आप को समर्पित करते हुये तत्पर है. ट्रस्ट द्वारा पिछले काफ़ी समय से इसके संस्थापक अध्यक्ष श्री विनित कुमार योग व योग के द्वारा इलाज,नैचरोपैथी से इलाज,आयुर्वेद से इलाज, मेडिटेशन से इलाज ,बच्चों के लिये यौगिक खेल ,और ग़रीब बेसहार लोगों के लिये मुफ़्त में मधुमेह का इलाज किया और उस पर रिसर्च भी की कि योग करने के पहले उनके शरीर की क्या दशा थी और बाद मे कितना आराम उनको मिला 30 दिन योग थेरेपी कराने के पश्चात जब उनका पैरामीटर्स लिया गया ,देशी गाय के मूत्र से बनी दवा जो लोगों को लकवा ,क़ब्ज़ ,कैंसर जैसे रोगों से दूर रखने मे मदद करती है ,उसको हमारी ट्रस्ट मुफ़्त मे दे रही है ,जिसका सारा भार हमारे संचालक विनित कुमार,और साथ ही साथ बच्चों की निःशुल्क शिक्षा व स्वास्थ्य संबनधित एवं संस्कृत का विघालय अपनी ट्रस्ट के माध्यम से खोलना चाहते है,जहाँ पर वो उच्च शिक्षा व उनके मित्र जो SVYASA योग युनिवरसिटी मे diets,व हैल्थ के डाक्टर है जो प्रत्येक महिने मे एक बार लेक्चर दे ,जिसके लिये वो चाहते है आगे चलकर केन्द्र व राज्य सरकार उनकी मदद करे इस उच्च कार्य मे वो भी निस्वार्थ।

स्वरूप योग प्रशिक्षण एवं समगरोपचार ट्रस्ट

E- swaroopyoga2015@gmail.com

 

मिशन मीरा के तहत महिला द्वारा महिलाओं के लिए उदयपुर में ई-रिक्शा

Mission Meera

श्रीनाथजी सेवा संस्थान की ओर से मिशन मीरा के तहत उदयपुर, राजस्थान में महिलाओं को ई-रिक्षा का परीक्षण दिया जा रहा है. ताकि महिलाऐं आत्म निर्भर होकर आर्थिक रूप से सक्षम हो सके.

श्रीनाथजी सेवा संस्थान और प्रादेशिक परिवहन विभाग द्वारा उदयपुर में मिशन मीरा प्रोजेक्ट की शुरुआत की गई. मिशन मीरा का मुख्य उद्देश्य महिलाओं द्वारा महिलाओं की सुरक्षा करना है. मिशन मीरा के तहत महिओलाओं को ई-ऑटोरिक्शा प्रदान किया जायेगा.

ई-ऑटोरिक्शा के संचालन और चलने का प्रशिक्षण भी श्रीनाथजी सेवा संस्थान और प्रादेशिक परिवहन विभाग द्वारा दिया जाता है. मिशन मीरा के तह महिलाओं महिला रोजगार के लिए जून 17 में प्रशिक्षण दिया गया. इस प्रशिक्षण के लिए तीसरे बैच को ई-रिक्शा चलने के लिए शुरू किये गए बैच का उद्घाटन उदयपुर के जिला कलेक्टर ने किया. इस अवसर पर मिशन मीरा के प्रोजेक्ट संचालक और प्रादेशिक परिवहन अधिकारी डॉ. मन्ना लाल रावत, श्रीनाथजी सेवा संस्थान की अध्यक्ष साधना खथुरिया, जिले प्रमुख अधिकरीगण और नागरिक मौजूद थे. इस समारोह में पुराने बैच में प्रशिक्षित 25 महिलाओं को भी प्रशिक्षण के प्रमाण पत्र और ई-रिक्शा चलाने के लाइसेंस प्रदान किये गए.
अशोक लीलैंड की अशोक लीलैंड वाहन चालक प्रशिक्षण संस्थान द्वारा रेलमगरा, उदयपुर में महिलाओं को ई-रिक्शा और कार चलाने का प्रशिक्षण दिया गया है.
इसमें घरेलु महिओलाओं को श्रीनाथजी सेवा संस्थान द्वारा ई-रिक्शा के लिए मिशन मीरा में शामिल करने के लिए उदयपुर शहर की दस बस्तियों में सर्वे करवाया गया. सर्वे में महिलाओं को मिशन मीरा से वागत करवाया गया और इससे जुड़ने के लिए प्रेरित किया गया. मिशन मेरा उदयपुर के प्रादेशिक परिवहन अधिकारी डॉ. मन्ना लाल रावत द्वारा प्रारंभ किया गया है ताकि महिलाओं को रोजगार मिल सके और महिलाओं के परिवहन के लिए महिला रिक्शा चालक उपलब्ध हो से. श्रीनाथजी सेवा संस्थान की अध्यक्ष साधना खथुरिया ने अपनी टीम के साथ मिलकर मिशन मीरा को मूर्त रूप देने की शुरुआत की जिसके तहत उदयपुर में मिशन मीरा परियोजना कार्यरूप में एक अनुकरणीय परियोजना के रूप में सामने आई है.

मेरठ में एनजीओ गरीबों के लिए 5 रुपये का भोजन उपलब्ध कराता है

मेरठ: रोजाना कम से कम 100 गरीब लोगों को खाना खिलाए जाने के उद्देश्य से, मेरठ स्थित एक गैर सरकारी संगठन ‘केअर एन शेयर’ एक कार से 5 रुपये का भोजन उपलब्ध कराता है, जिसे वे ‘सब की रसोई’ कहते हैं.

भोजन में चावल और ‘दाल’ होती है और यह लोगों के लिए शहर में घूमकर उपलब्ध कराया जाएगा.

गैर-सरकारी संगठन के 43 सदस्यों में से एक डॉ एस के सूरी ने कहा, “मैंने कई बार देखा है कि गरीब खाने के लिए भीख मांगते हैं, कुछ अन्य कूड़ेदानों से बाएं ओवरों को खाने की कोशिश करते हैं और कई अन्य लोग दिन में भोजन किए बिना सोते हैं। यह सुनिश्चित करने के लिए कि गरीब लोग भूखे सोए न जाएं, हमने सोचा कि इस पहल के बारे में 5 रुपये प्रत्येक व्यक्ति को जो हमारे पास आता है एक भोजन प्रदान करें। हम मुख्य रूप से गरीब लोगों को खाना देने पर ध्यान देते हैं, लेकिन हम किसी भी व्यक्ति को खाना देने से इंकार नहीं करेंगे जो हमारे पास आता है। “

Children facing malnutrition in PM Modi constituency Varanasi, PIL filed in HC

Malnutrition in child are increasing in prime minister Narendra Modi constituency Varanasi

Malnutrition in UPPrime Minister Narendra Modi is working on developing the country towards a developing country from the developing world, while there are still Lakhs of children in Varanasi, whose parliamentary constituency is hunting for malnutrition. Children facing malnutrition in Varanasi the parliamentary constituency of Prime Minister Narendra Modi but no action is taken to provide nutrition and proper treatment and administration is not caring of. So NGO files Public Interest Litigation (PIL) in the Allahabad High Court, So High Court has sought a counter affidavit on PIL highlighting malnutrition among the children of several villages in Varanasi district.

Over one lakh children have been identified as malnourished from urban and rural areas of Varanasi in the survey of Child Development Department under Central Government. Under the Child Development Project, 379276 children of Varanasi were weighed in 0 to 5 years. In this, on the basis of weight, more than one lakh children were found in the category of malnutrition and 23313 children were found to be extremely malnourished.

High Court division bench, in its order dated June 20, directed the Varanasi district magistrate to file his reply on a PIL filed by the NGO Jan Adhikar Manch. According to the petition that following media reports about malnutrition among the children of Harhua block in the district, it had sent a fact-finding team to five villages between May and June and the team confirmed that at least 22 children were malnourished, three of them acutely.

In PIL it has alleged that some of these children remained malnourished, despite having undergone treatment at a malnutrition rehabilitation centre in Varanasi city since they did not get nutritious food, including a certain quantity of desi ghee once daily, in accordance with the guidelines issued by the state’s Directorate of Child Development Service and Nutrition.

The petitioner NGO has prayed for directions to the district magistrate to “ensure the daily and uninterrupted supply of nutritious food to the 22 malnourished children” and to “monitor its implementation on a monthly basis”. NGO has also prayed for directions for “constitution of different teams in all the eight blocks of Varanasi district to identify the malnourished children in all the villages”, so that medicines and nutrition could be provided to them. IN PIL NGO has also appended photographs of some of the malnourished children in the age group of one to six years. High court has fixed July 4 as the next date of hearing in the matter and directed the Varanasi district magistrate to file a counter affidavit.

The facts included in PIL is of acertain area Children but according to media reports in the rural areas, the highest number of 3652 children are in the category of malnourished. The number of malnourished children in the Kashi Vidyapeeth block is 3193, in Sewapuri 2205, 2336 in Chirigaon, 1762 in Pindra, 1603 in Harihua, 1605 in Bargaon and 1906 children in Cholapur block are in the category of very malnourished.

The number of highly malnourished children in the city area is more than 5000 according to records of the Child Development Department. After identification of malnourished children, health department has claimed to planned to nurture the children. Under this claim Nutrition is given to the malnourished children with treatment. According to the Health Department statistics, so far the health of 7894 children has improved.

Many schemes are being run by the central government and the state government for the poor families and children, including rural areas and backward areas, but the figures of malnourished children have been revealed so that these schemes are limited to only paper.

1 2 3