दिशा आरोग्य धाम – निःशुल्क इलाज़

भारत की सबसे बेहतरीन आयुर्वेद और प्राकृतिक चिकित्सा सेवा देने वाली संस्था हैं।
जहाँ पर पुरातन आयुर्वेद ऋषिमुनियों द्वारा अर्जित ज्ञान द्वारा इलाज़ होता हैं।
हमारी तकरीबन सभी दवाई एक ही पौधे द्वारा तयार की जाती हैं।
औऱ उनसे उपचार किया जाता हैं।
दिशा आरोग्य धाम में सभी प्रकार की बीमारियों का ईलाज़ कम समय मे किया जाता हैं।
जो व्यक्ति या डॉ ये बोलते हैं।
कि आयुर्वेद औऱ प्राकृतिक चिकित्सा धीमी गति से इलाज़ करती हैं।
दिशा आरोग्य धाम एक मिशाल हैं।
जहाँ पर आयुर्वेद और प्राकृतिक चिकित्सा एलोपैथी से भी जल्दी में पूर्ण इलाज़ करती हैं।
जहाँ आप दूसरी अन्य चिकित्सा पैथी में सालों तक या उम्र भर तक इलाज़ लेते हैं।
वही इलाज़ हमारे संस्थान में मात्र कुछ दिनों या महीनों के होता हैं।
और जहाँ दूसरी चिकित्सा पैथी में आपको महँगे और दर्द भरे इलाज़ मिलते हैं।
बिना मतलब के टेस्ट किए जाते हैं।
वही इलाज़ हमारे संस्थान में बहुत ही कम दरो पर किए जाते हैं।
हमारे संस्थान की सभी शाखाओं पर कैंसर, एच् आई वी,किड़नी फेलियर, ओर नशा छुड़ाने की दवाई निःशुल्क दी जाती हैं।

‘‘नेशनल डायमंड अचीवर अवार्ड’’ से सम्मानित ‘‘श्रीमती अनीता राज ’’

 दिनांक 11 मार्च 2018 को राजस्थान मरू की नगरी ‘‘बिकानेर’’ में यूथ वर्ल्ड समाचार समूह द्वारा आयोजित सम्मान समारोह में उपस्थिति.

मुख्य अतिथि :- श्री शिशुपाल सिंह निम्बाड़ा ( पूर्व उपाध्यक्ष केन्द्रीय बाल श्रम बोर्ड भारत सरकार )

श्री राजिंदर कपूर ( चीफवार्डन सिविल डिफेंस राष्टपति अवार्डी) व

श्रीमती वीना अरोड़ा ( राष्ट्रीय समाज सेविका ) व

डॉ. पूनम माटिया ( कावित्री एवं वरिष्ट समाजसेविका ) जैसी हस्तियों द्वारा यूथ वर्ल्ड समाचार समूह के तत्वाधान में ‘‘मंथन फाउंडेशन ऑफ इंडिया’’ की राष्ट्रीय सचिव श्रीमती अनीता राज को ‘‘नेशनल डायमंड अचीवर अवार्ड’’ से सम्मानित किया गया.

पर्यावरण की रक्षा में हुआ शँखनाद – राकेश मिश्रा

राजस्थान प्रदेश में जयपुर जिले की विराटनगर तहसील के रहने वाले तीस वर्षीय युवा ने ना सिर्फ सवा लाख पेड़ लगाए बल्कि अपने इस संघर्षमयी संकल्प में लाखों लोगों को जागरूक किया……क्या आप कल्पना कर सकते हैं कि एक इंसान,जिसने अपना घर इसलिये छोड़ दिया हो ताकि वो दुनिया को हरा भरा कर सके,
उस इंसान ने तय किया है कि वो तब तक नये कपड़े नहीं पहनेगा और नंगे पैर रहेगा जब तक वो सवा लाख पेड़ नहीं लगा लेता,हवा को सांस लेने लायक बनाने के लिये उस इंसान ने अपनी गाड़ी और दूसरा बहुमूल्य सामान तक बेच दिया हो…. ग्लोबल वार्मिंग से निपटने के लिये दुनिया के सभी देश पेरिस समझौता लागू करने पर जोर दे रहे हैं,लेकिन वो इंसान अकेला ही इस समस्या से निपटने के लिये बीते साल 10 फरवरी 2016 से पेड़ लगाने में जुटा हुआ है,राजस्थान के जयपुर शहर के विराटनगर कस्बे में रहने वाले 30 वर्षीय राकेश मिश्रा अब तक करीब 1 लाख 62 हजार पेड़ लगा चुके हैं।

इसके अलावा मिश्रा अपनी संस्था ‘नया सवेरा संस्था’ के जरिये महिलाओं को आत्मनिर्भर बनाने के साथ साथ गरीब बच्चों को शिक्षित बनाने का काम कर रहे हैं,राकेश को समाज सेवा की प्रेरणा अपने दादाजी श्री रामेश्वर प्रसाद मिश्रा जी से विरासत में मिली।वो खुद एक UDC कलर्क थे साथ ही समाजसेवक भी।
जो बचपन से ही राकेश को सामाजिक परेशानियों और उनके कारणों के बारे में जानकारी देते रहते थे।इस वजह से बचपन से ही राकेश का रूझान समाजसेवा की ओर हो गया।
जिसके बाद साल 2002 में उन्होने ‘नया सवेरा संस्था’ (Naya Sawera Sanstha) नाम से एक स्वंय सेवी संस्था की स्थापना की।

उन्होने अपने काम की शुरूआत पोलियो मुक्त अभियान (Polio free campaign) के साथ की। इस अभियान के तहत वो नुक्कड़ नाटकों के जरिये लोगों को पोलियो के खिलाफ जागरूक करते थे लेकिन पेड़ लगाने (tree plantation) का ख्याल उनको गाँवों में पहाड़ों से लकड़ियाँ काट कर ला रही महिलाओं को देखकर हुआ की एक दिन सारे पेड़ कट जायेंगे तो विनाश हो जायेगा तब दिमाग में आया की अब पर्यावरण के लिए कुछ ऐसा करना है जो किसी ने ना किया हो,तब उन्होने महसूस किया कि पर्यावरण में काफी बदलाव देखने को मिल रहा है और इसके लिये दिनों दिन कम होते पेड़ जिम्मेदार हैं साथ ही लोग भी जागरूक नहीं हैं।जिसके बाद उन्होने तय किया कि वो अकेले ही पेड़ लगाने का काम करेंगे साथ ही लोगों को भी पर्यावरण के प्रति जागरूक (environmental awareness) करेंगे।इस तरह उन्होने 10 फरवरी 2016 से पेड़ लगाने की मुहिम को शुरू किया साथ ही उन्होने चार संकल्प लिये। राकेश मिश्रा (Rakesh Mishra) के मुताबिक लिए गए संकल्प…..

जब तक मैं सवा लाख पेड़ नहीं लगा लेता तब तक-
*मैं अपने घर नहीं जाऊंगा?*
*नंगे पैर रहूंगा?*
*दिन में एक बार भोजन करूंगा?*
*नये कपड़े नहीं पहनूंगा और?*

उन्होंने ऐसा सिर्फ पर्यावरण के लिए लोगों को जागरूक करके वृक्ष लगाने और उनकी जिम्मेदारी निभाने के लिए ऐतिहासिक कदम उठाया,राकेश ने पहले चरण में पेड़ लगाने की शुरूआत अपनी संस्था ‘नया सवेरा संस्था’ (Naya Sawera Sanstha) के तहत विराटनगर से शुरू की।उनकी इस मुहिम में अब राजस्थान के अलावा हरियाणा,दिल्ली,उत्तरप्रदेश,महाराष्ट्र,मध्यप्रदेश,उत्तराखण्ड,गुजरात,असम,उड़ीसा,के लोग भी शामिल हुए हैं,
अब तक वो कुल 1 लाख 62 हजार पेड़ लगा चुके हैं।राकेश मिश्रा ने केवल सवा लाख पेड़ लगाने का ही लक्ष्य नहीं रखा है बल्कि उन पेड़ों की देखभाल का भी जिम्मा भी उठाया और ऐसी जगह पर वृक्षारोपण किया जो उन वृक्षों को पालने की जिम्मेदारी ले सकें।हालांकि उनके इस काम में अब
‘नया सवेरा संस्था’ (Naya Sawera) के सदस्य भी उनकी मदद कर रहे हैं,जिनमें संस्था की निदेशिका व राष्ट्रीय सचिव माण्डवी मिश्रा का भरपूर सहयोग मिला है माण्डवी मिश्रा उत्तरप्रदेश में रायबरेली जिले की रहने वाली और अभी लॉ स्टूडेंट हैं माण्डवी मिश्रा नया सवेरा संस्था की निदेशिका होने के साथ साथ सामाजिक कार्यों में भी अपनी रूचि रखती हैं,माण्डवी मिश्रा अपनी राष्ट्र भाषा हिन्दी के सम्मान में स्व लिखित कविताओं के माध्यम से मातृ भाषा का प्रचार प्रसार कर रही हैं,संविधान को सरल भाषा में कविता के माध्यम से आम जनता को परिचित कराने का कार्य बखूबी से निभा रही हैं,नारी शोषण के विरूद्ध आवाज उठाती है एवं नारी शक्ति को स्वावलंबन बनाने में योगदान दे रही हैं!
नारी शक्ति को प्रोत्साहित करती रहती है!
गरीब अनाथ असहाय लोगों की सहायतार्थ हमेशा तत्पर रहती हैं!
शिक्षा के क्षेत्र में भी गरीब बच्चों को कॉपी-किताब देकर उन्हें शिक्षा से जोड़े रखने का कार्य भी कर रही हैं!

राकेश मिश्रा ने ‘’ बताया कि इस काम को संघर्षपूर्ण करने के लिए मैंने अपनी व्यक्तिगत चीजों को बेच दिया है।मेरी कोशिश है कि मैं इस काम को अपने बलबूते करूं,ताकि ज्यादा से ज्यादा लोग पर्यावरण के प्रति जागरूक हों।पेड़ लगाने के अलावा राकेश मिश्रा ‘पर्यावरण के लिये युद्ध’ नाम से एक मुहिम भी शुरू कर चुके हैं।इस मुहिम के तहत वो लोगों को जागरूक करने के लिए जगह-जगह सभाएं आयोजित कर रहे हैं,साथ ही वो नुक्कड़ नाटकों के जरिये भी लोगों को जागरूक कर रहे हैं,राकेश ने पहाड़ों में हो रहे अवैध खनन के खिलाफ माफियाओं के विरूद्ध अभियान शुरू किया है।इस वजह से उन पर दो बार जानलेवा हमले भी हो चुके हैं।वो बताते हैं कि पहाड़ों में खनन की वजह से पहाड़ काटे जा रहे हैं जिस कारण पेड़ भी कट जाते हैं। इससे पर्यावरण पर बुरा असर पड़ता है।

राकेश ने बताया कि जब उन्होंने इन आंदोलन को शुरू किया था तो लोग उनका मजाक बनाते थे,लोग उन्हें पागल कहते थे,लेकिन धीरे धीरे लोगों ने उनके काम को समझा और कुछ हद तक उन्हें लोगों ने सपोर्ट भी किया,लेकिन मिश्रा ने वृक्षारोपण का कार्य सर्दी,गर्मी और बारिश में जारी रखा,नतीजा 4 माह में सामने आने लगा कि मिश्रा के पैरों में गर्मी की तपती सड़कों पर चलने से छाले पड़ गए,अब कड़े संघर्ष में काम थोड़ा धीरे धीरे चला,मिश्रा को कई राजनैतिक दलों के नामी लोगों ने अपने छल कपट से बहकावे में लेकर झूठे आश्वाशन दिए कि तुम्हारा संकल्प 10 दिन में पूरा करवा देंगे,तुम्हारी मदद करेंगे लेकिन किसी ने मिश्रा की मदद नहीं कि,लेकिन मिश्रा अपने सवा लाख वृक्ष लगाने के मिशन को 5 जून 2017 को सम्पूर्ण कर देश में फिर से पर्यावरण की स्थिति को सुधारने के लिए “पर्यावरण बचाओ भारत यात्रा” एक आंदोलन रूपी अभियान शुरू कर चुके हैं,इस आंदोलन में मिश्रा इस बार सवा करोड़ वृक्ष लगाने का कार्य अपने कंधों पर लेकर चल रहे हैं,मिश्रा इस अभियान को लोगों तक लेकर जाते हैं और मदद माँगते हैं,लेकिन मिश्रा के इस अनूठे संकल्प को देखकर भी लोगों का दिल नहीं पसीजता,लेकिन कुछ लोगों ने इस संकल्प को समझा और वो मिश्रा के इस संकल्पमयी आंदोलन में मिश्रा के साथ कंधे से कंधा मिलाकर साथ हैं,जिनमें हैं बड़ी बहन व मार्गदर्शक श्रीमती निर्मला राव जी,जीजाजी श्री पूरण राव जी(फाउंडर & डायरेक्टर-सत्यमेव न्यूज़),डॉ.अनिल जैन जी,प्रशान्त भट्ट जी,नया सवेरा संस्था सदस्य अलख मिश्रा,शुभम सोनी,भास्कर शर्मा जी,वीरेन्द्र सूद जी,मनीष शर्मा जी,दिलीप जैन जी,पायल वर्मा जी आदि मौजूद हैं,अब फिलहाल अपने पर्यावरण प्रेम के अनूठे संकल्प को मिश्रा विश्व स्तर पर ले जाने के लिए सवा करोड़ पेड़ लगाने और देशभर में लोगों को जागरूक करने का संकल्प ले कर जन जागरण अभियान चला रहे हैं,10 फरवरी से वृक्षारोपण का मिशन शुरू होने जा रहा है,मिश्रा अपनी पर्यावरण को सुरक्षित करने की यात्रा को राजस्थान प्रदेश के जयपुर जिले की विराटनगर तहसील से शुरू कर देश के हर राज्य में जा जाकर वृक्ष लगा कर सम्पूर्ण करेंगे व देश वासियों को ज्यादा से ज्यादा संख्या में जागरूक करने का यह संकल्पित अभियान है!

“पर्यावरण बचाओ भारत यात्रा” देशव्यापी आंदोलन के लिए मिश्रा अब तक जिन व्यक्तियों से मिलकर इस आंदोलन का पोस्टर विमोचन करवा चुके हैं व इन सभी ने आंदोलन में अपना अपना सहयोग देने की बात कही है,जिनमें हैं पर्यावरण मिनिस्टर श्री हर्ष वर्धन जी,श्रीमती संगीता जेटली जी(धर्मपत्नी वित्त मंत्री अरुण जेटली),भाजपा राष्ट्रीय उपाध्यक्ष श्याम जाजू जी,आर.एस.एस. के गोलक बिहारी राय जी,हेल्थ केबिनेट मिनिस्टर जे.पी.नड्डा जी,केबिनेट मिनिस्टर स्वतंत्र प्रभार रीता बहुगुणा जोशी जी,दया शंकर जी भाईसाहब उत्तरप्रदेश उपाध्यक्ष भाजपा,संयुक्ता भाटिया जी लखनऊ उत्तरप्रदेश महापौर,उत्तराखंड फाइनेंस मिनिस्टर प्रकाश पंत जी,उत्तराखण्ड भाजपा अध्यक्ष अजय भट्ट जी आदि!

जल्द ही मिश्रा की जीवनी पर आधारित लघु फ़िल्म बनने जा रही है,मिश्रा इस लघु फ़िल्म को जन जन तक पहुँचाना चाहते हैं,यह फ़िल्म पर्यावरण प्रदूषण को रोकने के साथ साथ पर्यावरण की सुरक्षा को लेकर बनाई जा रही है-

विश्व पर्यावरण संरक्षण दिवस व संविधान दिवस के अवसर पर काव्य संगोष्ठी

टाकरवाड़ा कोटा (राजस्थान) में विश्व पर्यावरण संरक्षण दिवस व संविधान दिवस के सुअवसर पर नव भारत निर्माण युवा संगठन के तत्वावधान में महर्षि वाल्मीकि विद्या मन्दिर में आंचलिक रचनाकारों की एक काव्य गोष्ठी आयोजित की गई| गोष्ठी की अध्यक्षता श्री सुरेश कुमार मीणा (अध्यक्ष -नव भारत निर्माण युवा संगठन) ने की| विशिष्ट अतिथि श्री ओमप्रकाश चक्रवर्ती, श्री मोहन लाल मालव, श्री वीरेन्द्र कुमार गोचर (महासचिव -नव भारत निर्माण युवा संगठन) एवं पं. श्री राघवेन्द्र थे|
अध्यक्ष व अतिथियों द्वारा माँ सरस्वती का पूजन -अर्चन किया गया| कवि श्री जगदीश भारती की सरस्वती वंदना से हुई|
श्री मुकुट बिहारी मीणा ने भाई -बहिन के पवित्र प्रेम पर एक भावपूर्ण हाडौती रचना सुनाई-“बीरा म्हारा क्हीज्यों रै सबसूं राम राम|”श्री महेश चौबे इलाहाबादी ने -“वृक्ष जीवन के आधार “तथा शिवनारायण गुप्ता महौली ने -“प्यारा हिन्दुस्तान “प्रस्तुत की| कवि परमानन्द गोस्वामी ने किसान की आशा की केन्द्र काली -घटा को मेहमान के रूप में पढ़ी -“उठ उठ री कलायण म्हारे फावणी आजा… |”कवि श्री जगदीश भारती ने एक हिन्दी रचना -“सत्य अंहिसा की रक्षा में दुःख दरिया बन बह लेंगे “तथा एक हाडौती व्यंग्य सामाजिक विषमता पर पढ़ी-“मंदर की डोरो तो म्हारा हाथ को बंध्यो.. .वाह जी वाह| “कवि व टिप्पणीकार श्री महावीर प्रसाद मालव ने समाज, धर्म, श्रोताओं व रचनाकारों से दाद बटोरी| कवि श्री आर सी आदित्य ने राष्ट्रीय चेतना से ओतप्रोत ओजस्वी स्वर में छन्द सुनाए-“कुर्बान हुए वीर सैनिकों का हौसला बढाईए एक बार जंग आर पार की कराईए| “कवि श्री देवकी दर्पण हाडौती गजल -“बात पराणी पाका हांडा गार न्ह लागी. ..”पढ़ी| कवि श्री लटूर लाल मेहर ने स्वस्थ आदर्श व लाजवाब श्रृंगार गीत सुनाकर मंत्रमुग्ध किया -“म्हा भटकां तो भी खटकां. …”तथा”चूडला की चूंपा मं पीव दरस कर आवै जीव, साजन म्हारै आवै रै प्यारा फावणा… |”कवि साहित्यकार श्री सी.एल.साँखला ने समसामयिक दोहे तथा ‘पिता’ पर केन्द्रित कविता पढ़ी -“पिता टूटने नहीं देता ,बच्चों की आशाएँ, रखता है जीवन्त पिता होता है परमपिता. …|”
इस अवसर पर वरिष्ठ कवि स्व. लक्ष्मीनारायण मालव जी की चंद हाडौती गीत रचनाएँ भी श्री देवकी दर्पण व श्री महावीर प्रसाद मालव के स्वर में प्रस्तुत कर पावन स्मृतियों को जीवन्त किया| श्री मुकुट बिहारी मालव ने स्व. लक्ष्मीनारायण मालव स्मृति समारोह की भावी योजनाओं की जानकारी दी|
इस अवसर पर श्री अटल बिहारी सैनी (उपाध्यक्ष -नव भारत निर्माण युवा संगठन) ,श्री अशोक मालव (सचिव -नव भारत निर्माण युवा संगठन) ,श्री बाबू लाल मालव (महामंत्री -नव भारत निर्माण युवा संगठन) ,श्री राकेश गोचर, श्री श्याम सेन, श्री कपिल गोचर, श्री कन्हैया लाल गोचर, श्री मुनेश मालव, श्री शुभम सैनी व ग्रामीण उपस्थित थे| कार्यक्रम अध्यक्ष श्री सुरेश कुमार मीणा ने साहित्यिक एवं सांस्कृतिक आयोजनों की महत्ती आवश्यकता व्यक्त करते हुए आश्वस्त भी किया| अंत में उन्होने सभी रचनाकारों व ग्रामीणों का आभार व्यक्त किया|

पौधारोपण

बूंदी. पर्यावरण जाग्रति अभियान के तहत हाडौती पर्यावरण एवं भूमी सुधार संस्थान द्वारा बुन्दी में जनचेतना और वृक्षारोपण का कार्यक्रम आयोजित किया गया. कार्यक्रम में चेतन मीणा और संसथान के युवा सदस्यों ने वृक्षारोपण किया. हाडौती पर्यावरण एवं भुमी सुधार संस्थान के द्वारा नीम के पौधे लगवाकर राजस्थान के हाडौती क्षेत्र में पर्यावरण विकास और संरक्षण के तहत जाग्रति अभियान के दौरान वृक्षारोपण कार्यक्रम को निरंतर आगे बढाने के अभियान की शुरुआत की गई.

स्वच्छ भारत मिशन कार्यक्रम

महान सेवा संसथान उदयपुर जिलाधीश महोदय, CEO सर व जिलाप्रमुख जी Wells for India के country Director ओमप्रकाश जी के साथ स्वच्छ भारत मिशन कार्यक्रम के अंतर्गत निर्मित IEC सामग्री का विमोचन किया गया.

 

 

 

Weekend Food Distribution by Impetus NGO in Udaipur

Impetus (NGO) does regular weekend food distribution for the needy in and around Udaipur. They travel in two wheeler with the food packets and distribute it among the people they meet near roadsides.

Food distribution is carried out by team IMPETUS on regular basis since the past 41 Sundays, around 10 months. A minimum of 50 packets are distributed weekly, which may at times go up to 100 -150 food packets depending upon the sponsors.

Impetus has kept this activity so transparent that the complete amount donated for this purpose is used for feeding the poor. They believe that true happiness is bringing smile to those faces who wouldn’t have managed that curve on their face otherwise, due to their unfortunate circumstances.

पर्यावरण संरक्षण अभियान के तहत वृक्षारोपण

टाकरवाडा: नवभारत निर्माण युवा संगठन टाकरवाडा (कोटा) के तत्वाधान मे पर्यावरण संरक्षण अभियान एवं वृक्षारोपण कार्यक्रम तथा जनजागरुकता रैली का आयोजन किया गया जिसमे मुख्य अतिथि मनोज जी शर्मा उपजिला प्रमुख कोटा, विशिष्ठ अतिथि शहजाद आसगान पीपल्दा विधानसभा उपाध्यक्ष युवा कांग्रेस, इटावा सदर गुल्लू भाई, इटावा पूर्व सरपंच देवजी कोठारी, टाकरवाडा ग्राम पंचायत सरपंच साहिबा संजू ऐरवाल, ग्राम सचिव केलास जागिंड, अध्यक्षता नवभारत निर्माण संगठन अध्यक्ष सुरेश कुमार मीणा ने की ।
कार्यक्रम मे मुख्य वक्ता व.अ.मोहनलाल वर्मा ने बच्चो एवं सभी ग्रामवासियो से पर्यावरण संरक्षण एवं वृक्षारोपण को अधिकाधिक संख्या लगाने का आह्वान किया गया ।
मंच संचालन करते हुऐ शिवराज मालव ने पेड पोधो को लगाने के साथ उनकी सुरक्षा करने का संकल्प लेने की जरूरत बताते हुऐ लोगो से सार्वजनिक स्थलो पर वृक्षारोपण करने की आवश्यकता बताते हुए वृक्षो को संरक्षण देने की बात कही।
इस अवसर पर उपजिलाप्रमुख मनोज शर्मा ने फीता काटकर जनजागरुकता रैली का शुभारंभ किया गया साथ ही बालिका विधालय परिसर मे मुख्य अतिथि ने नीम, शीशम, पीपल, धोक, कनीर के पोधे लगाकर वृक्षारोपण का शुभारंभ किया गया ।
कार्यक्रम में रा.उ.मा.वि.के छात्र छात्राओं, रा.उ.प्रा.वि.की बालिकओं सहित सैकड़ों ग्रामीणो ने कार्यक्रम मे भाग लिया ।

1 2