महिलाओं को भिलाई में सिलाई कढाई प्रशिक्षण दिया गया

भिलाई| एसकेजीएन संस्थान की ओर से भिलाई में महिलाओं को स्वरोजगार के लिए सिलाई व कढाई का प्रशिक्षण दिया गया. एसकेजीएन वीमेन वेलफेयर सोसाइटी की शहाना परवीन के अनुसार गरीब महिलाओं को आत्मनिर्भर बनने के लिए 2 साल तक सिलाई और कढाई का प्रशिक्षण आयोजित किया गया ताकि वे अपना स्वयं का कार्य कर सके. जिन महिलाओं ने प्रशिक्षण लिया हैं वे अपना कार्य खुद कर रही है और अपने परिवार की आजीविका चलाने में मदद कर रही है.

छत्तीसगढ़ पर्यावरण एवं संस्कृति संरक्षण संगठन द्वारा फलदार पौधों का वितरण

बिलासपुर| छत्तीसगढ़ पर्यावरण एवं संस्कृति संरक्षण संगठन द्वारा आज महामाया मंदिर रतनपुर जिला बिलासपुर में पर्यावरण संरक्षण हेतु आम लोगों में जागरूकता उत्पन्न करने के उद्देश्य से पौधों का वितरण किया गया. इस अवसर पर रतनपुर तहसीलदार एवं स्थानीय जनप्रतिनिधि एवं संगठन के कार्यकर्ता उपस्थित थे

मिशन मीरा के तहत महिला द्वारा महिलाओं के लिए उदयपुर में ई-रिक्शा

Mission Meera

श्रीनाथजी सेवा संस्थान की ओर से मिशन मीरा के तहत उदयपुर, राजस्थान में महिलाओं को ई-रिक्षा का परीक्षण दिया जा रहा है. ताकि महिलाऐं आत्म निर्भर होकर आर्थिक रूप से सक्षम हो सके.

श्रीनाथजी सेवा संस्थान और प्रादेशिक परिवहन विभाग द्वारा उदयपुर में मिशन मीरा प्रोजेक्ट की शुरुआत की गई. मिशन मीरा का मुख्य उद्देश्य महिलाओं द्वारा महिलाओं की सुरक्षा करना है. मिशन मीरा के तहत महिओलाओं को ई-ऑटोरिक्शा प्रदान किया जायेगा.

ई-ऑटोरिक्शा के संचालन और चलने का प्रशिक्षण भी श्रीनाथजी सेवा संस्थान और प्रादेशिक परिवहन विभाग द्वारा दिया जाता है. मिशन मीरा के तह महिलाओं महिला रोजगार के लिए जून 17 में प्रशिक्षण दिया गया. इस प्रशिक्षण के लिए तीसरे बैच को ई-रिक्शा चलने के लिए शुरू किये गए बैच का उद्घाटन उदयपुर के जिला कलेक्टर ने किया. इस अवसर पर मिशन मीरा के प्रोजेक्ट संचालक और प्रादेशिक परिवहन अधिकारी डॉ. मन्ना लाल रावत, श्रीनाथजी सेवा संस्थान की अध्यक्ष साधना खथुरिया, जिले प्रमुख अधिकरीगण और नागरिक मौजूद थे. इस समारोह में पुराने बैच में प्रशिक्षित 25 महिलाओं को भी प्रशिक्षण के प्रमाण पत्र और ई-रिक्शा चलाने के लाइसेंस प्रदान किये गए.
अशोक लीलैंड की अशोक लीलैंड वाहन चालक प्रशिक्षण संस्थान द्वारा रेलमगरा, उदयपुर में महिलाओं को ई-रिक्शा और कार चलाने का प्रशिक्षण दिया गया है.
इसमें घरेलु महिओलाओं को श्रीनाथजी सेवा संस्थान द्वारा ई-रिक्शा के लिए मिशन मीरा में शामिल करने के लिए उदयपुर शहर की दस बस्तियों में सर्वे करवाया गया. सर्वे में महिलाओं को मिशन मीरा से वागत करवाया गया और इससे जुड़ने के लिए प्रेरित किया गया. मिशन मेरा उदयपुर के प्रादेशिक परिवहन अधिकारी डॉ. मन्ना लाल रावत द्वारा प्रारंभ किया गया है ताकि महिलाओं को रोजगार मिल सके और महिलाओं के परिवहन के लिए महिला रिक्शा चालक उपलब्ध हो से. श्रीनाथजी सेवा संस्थान की अध्यक्ष साधना खथुरिया ने अपनी टीम के साथ मिलकर मिशन मीरा को मूर्त रूप देने की शुरुआत की जिसके तहत उदयपुर में मिशन मीरा परियोजना कार्यरूप में एक अनुकरणीय परियोजना के रूप में सामने आई है.

एनजीओ में नौकरी के नाम पर युवाओं से करोड़ों रूपये लेकर ठग फरार

दिल्ली के एक एनजीओ पर  मथुरा के करीब दस हजार युवाओं को नौकरी देने का झांसा देकर करोड़ों रूपये की धोखाधड़ी करने में मामले में रिपोर्ट दर्ज की गई है. आरोप है कि एनजीओ ने बाल कल्याण विभाग और शिक्षा क्षेत्र में नौकरी दिलाने का लालच देकर बेरोजगार युवाओं से पैसे ठगे. सभी पीड़ित युवक-युवतियों ने मदद के लिए मथुरा के जिला मैजिस्ट्रेट दफ्तर में शिकायत  है.
शिकायतों के मुताबिक, सेंट पीटर एंड मदर टेरेसा चिल्ड्रन एजुकेशन एंड वेलफेयर नाम के एक एनजीओ ने हजारों युवाओं को मुफ्त प्रशिक्षण और सुपरवाइजर व राज्य निदेशक जैसे पदों पर नियुक्ति का झांसा देकर बेवकूफ बनाया. इसके बदले एनजीओ ने सभी युवाओं से 80,000 से लेकर 1 लाख रुपये तक जमा करने को कहा. पैसे देने के बाद युवाओं को 20,000 तक की नौकरी और 5 साल के अनुबंध का फर्जी कागज दिया गया.
युवाओं का भरोसा जीतने के लिए इस एनजीओ ने अपने कुछ कर्मचारियों को कुछ महीने तक वेतन भी दिया. एनजीओ ने मथुरा में पिछले नवंबर से अपना काम शुरू किया था. इस संगठन का एक दफ्तर मथुरा-गोवर्धन सड़क पर था, जबकि इसका मुख्य ऑफिस नई दिल्ली के बदरपुर इलाके के एक पते पर पंजीकृत दिखाया गया था. आरोप है कि पैसा बटोरने के बाद एनजीओ के सदस्य अब करोड़ों रुपये लेकर फरार हो गए हैं.